22 फरवरी मंगलवार के दिन मानव अधिकार संरक्षण पर कार्यशाला सम्पन्न हुई साथ ही मान्यवरों का मौलिक मार्गदर्शन के साथ सत्कार समारोह गोंदिया जिले के सलेकसा तहसील अंतर्गत अर्धनारेश्वरालय मे सफल आयोजन रहा

0
303

*22 फरवरी 2022 मंगलवार को मानवअधिकार संरक्षण इस विषय पर कार्यशाला का सफल आयोजन ओर सत्कार समारंभ संपन्न किया गया*
केन्द्रीय मानवाधिकार संघटन, नई दिल्लीपंजीकृत संगठन की ओर से तालुका सालेकसा जिल्हा गोंदिया में श्री अर्धनारेश्र्वरलाय शिवगण मंगल भवन में 22 फरवरी 2022 मंगलवार को मानव अधिकार संरक्षण इस विषय पर कार्यशाला का सफल आयोजन रहा, मान्यवरों का मौलिक मार्गदर्शन, एव अन्य सेवा से जुड़े समाजसेवकों का लाइफ प्राइड अवार्ड देकर सम्मानित किया गया
मंगलवार सुबह एक सूर्य के किरण के भाती केन्द्रीय मानवाधिकार संगठकन संघटन के , संस्थापक, जनक दैनिक केन्द्रीय मानवाधिकार हिंदी समाचारपत्र के संपादक मानव अधिकार संरक्षण इस विषय पर मानद डॉक्टरेट प्राप्त डॉ. मिलिंद दहिवले सर का मंच पर आगमन हुआ साथ ही सभी अथिति गन ओर कार्यक्रम आयोजक बाजीराव तरोने, महाराष्ट्र प्रभारी श्री देवानंद नंदागवळी, आर्टिस्ट श्री प्रियदर्शन सोनटक्के, वाहतूक विभाग श्री चागेश्वर उईके प्रमुख उपस्थित थे समारोह का सूत्रसंचलन श्री मायकल मेश्राम द्वारा हुआ इस कार्यशाला के उद्देश्य विस्तार से बताए गए
फिर डॉ मिलिंद दहिवले सर के साथ अथिति सभी मान्यवरों द्वारा दीप प्रज्वलित कर भारतीय संविधान के रचैता डॉ बाबासाहब अम्बेडकर जी की प्रतिमा पर पुष्पमाला चढाकर अभिवादन किया गया पूरे विश्व मे फैले कोरोना महामारी के चपेट में अपनी जान गवाने वाले समाज सेवी,कोरोना वारियर्स को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की गई समारोह में मंच पर उपस्थित अतिथी गनो का पुष्प गुच्छ एवं पौधे देकर स्वागत किया गया. कार्यक्रम की शुरवात देश के राष्ट्रगान से की गई.महाराष्ट्र प्रभारी डॉ.देवानंद नदागवली सर ने सभी अतीथीयो को मार्गदर्शन किया इसके बाद संघठन के संस्थापक डॉ मिलिंद दहीवले ने मानव अधिकार संरक्षण अधिनियम 1993 के बारे में विस्तार से बताया साथ ही अधिकार ओर कर्तव्य की तरह निभाये जाय इस विषय पर मार्गदर्शन किया के कानूनी नियम, कानून के अंतर्गत हमारे संरक्षण के महत्त्व बताये और मानवाधिकार क्या है हमारे सविधान ने हमें किस प्रकार के हक दिलाये है ये बतया. जिला सचिव बाजीराव तरोन ने हमारे संगठन को संबोधित करते हूये कहा की एक लकड़ी को कोई भी तोड सकता है लेकीन 10 से 15 लकड़ियों को कोई एक साथ नही तोड सकता ऐसे ही हमें संगठन मे जुड़कर समाज सेवा में काम करना हैं हमे एक होकर लड़ना है ऐसा कहा वाहतूक विभाग के चांगेश्वर उईके इंहोन वाहतूक के कूछ नियमो के बारे मे बताया की हमे वाहन चलाते समय कोनसी सावधानी बरतनी चाहिए यहा पर आये हूये कूछ अतीथीयो एवं समाज सेवकों को समाज गौरव, जिवन गौरव और कोरोना योद्धा जैसे पुरस्कारो से सम्मानित किया गया फिर देश के प्रियांबल के वाचन के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here